UNSC ने कोविड-19 को लेकर पहली बैठक की

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने 09 अप्रैल 2020 को कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी पर चर्चा करने के लिए पहली बार मुलाकात की। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने विश्वभर में कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट पर चर्चा के लिए बुलायी गई अपनी पहली बैठक में कोविड-19 से प्रभावित लोगों के साथ एकजुटता दिखाने और एकता बनाए रखने की आवश्यकता पर बल दिया है।

लंबे समय के इंतजार के बाद संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की गुरुवार 09 अप्रैल 2020 को वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए बैठक हुई। सभी देशों को उम्‍मीद थी कि इस महामारी से निपटने के लिए बैठक से कुछ ठोस नतीजा निकलकर सामने आएगा। हालांकि इसका ठीक उल्‍टा हुआ। संयुक्‍त राष्‍ट्र में चीन के राजदूत झांग जून ने कहा कि उनके देश को इस महमारी के लिए बलि का बकरा न बनाया जाए। उन्‍होंने कहा कि इस महासंकट से निपटने हेतु वैश्विक एकजुटता की जरूरत है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने इस महामारी से निपटने के लिए महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रयासों के प्रति भी समर्थन व्यक्त किया है। सुरक्षा परिषद ने कोविड-19 के प्रभाव को लेकर वीडियो-कांफ्रेंस के जरिये एक सत्र आयोजित किया था। संयुक्त राष्ट्र के इस प्रमुख अंग की अध्यक्षता अभी डोमिनिकन गणराज्य के पास है।

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख गुतारेस ने सत्र को संबोधित किया

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस ने भी सत्र को संबोधित किया। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख गुतारेस ने परिषद को संबोधित करते हुए कहा कि 75 साल पहले संयुक्त राष्ट्र की स्थापना के बाद से दुनिया अपने सबसे मुश्किल दौर में है। उन्होंने कहा कि इस बात का डर है कि विशेष रूप से विकासशील देशों और पहले से ही संघर्ष से जूझ रहे देशों में अभी इस महामारी का सबसे बुरा प्रभाव सामने आना बाकी है। गुतारेस ने जोर देकर कहा कि कोविड-19 महामारी से उत्पन्न शांति एवं सुरक्षा के खतरे को कम करने के लिए सुरक्षा परिषद की भागीदारी अहम होगी।

अमेरिका ने क्या कहा?

संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में भी अमेरिका का हमलावर रुख बरकरार रहा। अमेरिका के राजदूत ने मांग की कि इस वायरस की कहां पर उत्‍पत्ति हुई, इसकी जांच की जाए। अमेरिका ने साथ ही यह भी मांग की कि हेल्‍थ डेटा को सही समय पर शेयर किया जाए। अमेरिका और चीन के बीच नोक झोक के बाद संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस को आगे आना पड़ा। उन्‍होंने सुरक्षा परिषद से कोविड-19 महामारी से निपटने में एकजुट रहने का आह्वान किया।

एकजुट रहने की अपील की

संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कोरोना वायरस पर पहली बैठक में सुरक्षा परिषद से अपील करते हुए कहा कि इस मुश्किल समय में परिषद का एकजुट होकर इससे निपटने के लिए संकल्प लेना बहुत अहम है।

पृष्ठभूमि

दुनिया के लिए इस समय कोरोना वायरस महामारी से निपटना एक चुनौती बन गई है। इस वायरस की शुरुआत पिछले साल चीन के वुहान से हुई थी। यह वायरस अब लगभग पूरी दुनिया को प्रभावित कर चुका है। विश्वभर में कोरोना वायरस महामारी की चपेट में अब तक 16 लाख से अधिक लोग आ चुके हैं और 95,000 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है।