SBI की एमडी अंशुला कांत विश्व बैंक की एमडी और सीएफओ बनीं

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की मैनेजिंग डायरेक्टर (एमडी) अंशुला कांत हाल ही में विश्व बैंक की एमडी और चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर (सीएफओ) बनाई गई हैं। इसकी जानकारी विश्व बैंक के प्रेसिडेंट डेविड मैलपास ने दी।

अंशुला कांत फाइनेंसियल एंड रिस्क मैनेजमेंट (वित्तीय जोखिम प्रबंधन) की जिम्मेदारी संभालेंगी। अंशुला कांत के रूप में विश्व की सर्वोच्च बैंकिंग संस्था को एक ऐसी शख्सियत मिल रही है जिसका लाभ न केवल बैंक को होगा बल्कि विश्व के दूसरे देशों को भी होगा।

बैंकिंग सेक्टर में 35 वर्ष का लंबा अनुभव

अंशुला कांत को वित्त और बैंकिंग सेक्टर में 35 वर्ष का लंबा अनुभव है। उन्होंने एसबीआई को सीएफओ के तौर पर बेहतर योगदान दिया है। यही नहीं बैंकिंग सेवा में उन्हें तकनीक के बेहतर इस्तेमाल के लिए भी जाना जाता है। वे अन्य प्रमुख प्रबंधन कामों में वित्तीय रिपोर्टिंग, रिस्क मैनेजमेंट और अन्य वित्तीय संसाधनों के जुटाव पर विश्व बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) के साथ मिलकर काम करेंगी।

अंशुला कांत ने एसबीआई के सीएफओ के रूप में 38 बिलियन अमेरीकी डालर का राजस्व और 500 बिलियन अमेरीकी डालर की कुल संपत्ति का प्रबंधन किया। उन्होंने पूंजी आधार में बहुत सुधार किया तथा अपने जनादेश के भीतर एसबीआई की दीर्घकालिक स्थिरता पर ध्यान केंद्रित किया।

अंशुला कांत कौन है?

  • अंशुला कांत का जन्म 07 सितम्बर 1960 को हुआ था।
  • अंशुला कांत ने 06 सितंबर 2018 को भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का मैनेजिंग डायरेक्टर (एमडी) नियुक्त किया गया था। वो इससे पहले एसबीआई की डिप्टी एमडी एवं सीएफओ के पद पर कार्यरत थीं।
  • अंशुला कांत लेडी श्रीराम कॉलेज फॉर वुमन से इकोनॉमिक ऑनर्स में ग्रेजुएट है। दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से अर्थशास्त्र में पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री हासिल की।