DRDO ने पोखरण में नाग मिसाइल के तीन परीक्षण किये

रक्षा अनुसन्धान व विकास संगठन ने हाल ही में पोखरण में नाग मिसाइल के तीन सफल परीक्षण किये गये, यह परीक्षण दिन तथा रात दोनों समय में किये गये, इस दौरान मिसाइल की टेस्ट फायरिंग की गयी। इन सफल परीक्षणों के साथ ही नाग एंटी टैंक मिसाइल सेना में शामिल होने के अंतिम चरण में पहुँच गयी है।

पृष्ठभूमि

2018 में रक्षा अधिग्रहण परिषद् (DAC) ने 524 करोड़ रुपये की लागत से नाग मिसाइल सिस्टम (NAMIS) की खरीद को मंज़ूरी दी थी। NAMIS को DRDO द्वारा डिजाईन तथा विकसित किया गया है। इसमें तीसरी पीढ़ी की एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग तथा मिसाइल कैरिएर व्हीकल (NAMICA) शामिल है।

नाग मिसाइल

यह तीसरी पीढ़ी की एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल है, यह दिन तथा रात दोनों परिस्थितियों में दुश्मन टैंकों को नष्ट करने की क्षमता रखती है। इस मिसाइल की रेंज 3 से 7 किलोमीटर है। इसका विकास रक्षा व अनुसन्धान संगठन द्वारा किया गया है।