मुंबई में भारतीय कौशल संस्थान की आधारशिला रखी गयी

केन्द्रीय राज्य कौशल विकास व उद्यमशीलता मंत्री महेंद्र नाथ पाण्डेय ने मुंबई  में भारतीय कौशल संस्थान (IIS) की आधारशिला रखी। भारतीय कौशल संस्थान  की परिकल्पना प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा तैयार की गयी है, श्री मोदी सिंगापुर में व्यावसायिक शिक्षा व प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा से बेहद प्रभावित हुए थे, इससे प्रेरणा लेकर ही भारतीय कौशल संस्थान का निर्माण किया जा रहा है।

केन्द्रीय कैबिनेट ने तीन शहरों (मुंबई, अहमदाबाद और कानपूर) में भारतीय कौशल संस्थान की स्थापना के लिए मंज़ूरी दी है। इन तीनों संस्थानों का निर्माण व संचालन पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल के तहत ‘नॉट-फॉर-प्रॉफिट’ (अलाभकारी) आधार पर किया जायेगा।

भारतीय कौशल संस्थान

भारतीय कौशल संस्थान का उद्देश्य छात्रों को 10वीं तथा 12वीं के बाद तकनीकी शिक्षा प्रदान करना है, इससे वे आवश्यक कौशल भी सीखेंगे तथा उन्हें आसानी से रोज़गार प्राप्ति भी होगी।

भारतीय कौशल संस्थान का लक्ष्य प्रतिवर्ष 70% प्लेसमेंट के साथ 5,000 छात्रों को प्रशिक्षण प्रदान करना है। भारतीय कौशल संस्थान का निर्माण IIT और आईआईएम की तर्ज पर किया जा रहा है। इस संस्थान में अधिक मांग वाले क्षेत्रों जैसे डीप टेक्नोलॉजी, एयरोस्पेस इत्यादि क्षेत्रों में छात्रों को प्रशिक्षण दिया जायेगा।

मुंबई के NSTI कैंपस में भारतीय कौशल संस्थान की स्थापना के लिए टाटा एजुकेशन डेवलपमेंट ट्रस्ट को प्राइवेट पार्टनर चुना गया है, टाटा ग्रुप 4.5 एकड़ के कैंपस के लिए 300 करोड़ रुपये का निवेश करेगा।