प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मालदीव के सर्वोच्च सम्मान “निशान इज्जुद्दीन” से सम्मानित किया जायेगा

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मालदीव के सर्वोच्च सम्मान “रूल ऑफ़ निशान इज्जुद्दीन” से सम्मानित किया जायेगा। दरअसल प्रधानमंत्री मोदी की मालदीव यात्रा 8 जून से शुरू हो रही है, गौरतलब है कि दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद यह श्री मोदी की पहली विदेश यात्रा है।  हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी को विभिन्न देशों द्वारा सम्मानित किया गया है।

नरेन्द्र मोदी

नरेन्द्र मोदी का जन्म 17 सितम्बर, 1950 को गुजरात के वडनगर में हुआ था। गौरतलब है कि नरेन्द्र मोदी युवावस्था में अपनी परिवार की सहायता के लिए चाय का स्टाल लगाते थे। वे आरंभिक जीवन में आरएसएस नामक संगठन से जुड़ गये थे। 1968 में नरेन्द्र मोदी का विवाह जशोदाबेन से हुआ था। तत्पश्चात नरेन्द्र मोदी ने विभिन्न स्थानों की धार्मिक यात्रा की। इसके बाद वे गुजरात वापस आये। 1971 में श्री मोदी आरएसएस के पूर्णकालिक सदस्य बने। 1975 में आपातकाल के दौरान उन्होंने काफी सक्रिय होकर कार्य किया। 1985 में आरएसएस ने नरेन्द्र मोदी को भारतीय जनता पार्टी के साथ कार्य करने के लिए तैनात किया।

नरेंद्र मोदी 7 अक्टूबर, 2001 से 22 मई से 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री रहे। 2001 में भुज में आये भूकंप के कारण जान-माल की काफी हानि हुई। इस दौरान श्री मोदी ने उत्कृष्ठ कार्य किया। वर्ष 2002 में गुजरात में बड़े पैमाने पर सांप्रदायिक दंगे हुए थे,  इसके पश्चात् नरेन्द्र मोदी पर काफी प्रश्न चिन्ह खड़े हो गये थे। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित विशेष जांच दल ने इस मामले की जांच की, इस जाँच में SIT को नरेंद्र मोदी के विरुद्ध कोई साक्ष्य नहीं मिला और उन्हें क्लीन चिट दे दी गयी। नरेन्द्र मोदी ने गुजरात को आर्थिक हब बनाने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभायी।

2014 के लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी का नेतृत्व नरेन्द्र मोदी ने किया। नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने 282 सीटें जीतकर बहुमत हासिल किया और देश में पूर्ण बहुमत वाली सरकार का निर्माण हो सका।