कंबोडिया में किया गया व्यापक क्षेत्रीय आर्थिक साझेदारी (RCEP) की 7वीं अंतर-सत्रीय मंत्रिस्तरीय बैठक का आयोजन

हाल ही में व्यापक क्षेत्रीय आर्थिक साझेदारी (RCEP) की 7वीं अंतर-सत्रीय मंत्रिस्तरीय बैठक का आयोजन कंबोडिया के सीएम रीप में किया गया। इस बैठक का आयोजन दो मार्च को किया गया। इस बैठक में वस्तुओं, सेवाओं, निवेश, आर्थिक व तकनीकी सहयोग, प्रतिस्पर्धा तथा बौद्धिक संपदा अधिकार इत्यादि विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गयी। इस बैठक में भारत की ओर से केन्द्रीय वाणिज्य व उद्योग तथा नागरिक विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने हिस्सा लिया।

व्यापक क्षेत्रीय आर्थिक साझेदारी (RCEP)

RCEP 10 आसियान देशों (ब्रूनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड और वियतनाम) और इसके 6 FTA साझेदारों (ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, भारत, चीन, जापान और कोरिया) के बीच एक प्रस्तावित मुक्त व्यापार समझौता (Free Trade Agreement – FTA) है।

इस व्यापारिक समझौते के लिए वार्ता कंबोडिया में 2012 के आसियान शिखर सम्मेलन में शुरू हुई थी। इसमें वस्तुओं, सेवाओं, निवेश, आर्थिक व तकनीकी सहयोग, बौद्धिक संपदा अधिकार इत्यादि को शामिल किया जायेगा।
RCEP के 16 सदस्य देशों की कुल जनसँख्या 3.4 अरब है, इसकी कुल जीडीपी (PPP) 49.5 ट्रिलियन डॉलर है, यह विश्व की कुल जीडीपी का 38% हिस्सा है।

आसियान विश्व के सबसे तेज़ी से बढती हुए बाजारों में से एक है, इन देशों में भारत के लिए व्यापार और निवेश के काफी अवसर उपलब्ध हैं। 2017-18 में आसियान भारत का दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार था, इस दौरान भारत और आसियान के बीच 81.33 अरब डॉलर का व्यापार हुआ। यह भारत के वैश्विक व्यापार का 10.58% है। RCEP को ट्रांस-पैसिफिक पार्टनरशिप के विकल्प के रूप में भी देखा जा रहा है।